Category Archives: Uncategorized

हम साया!!We Shout!!

तेरी नरम हथेलियों ने सहलाया था मेरा माथा कभी,

गमनीयती में खुशनुमां ख्याल मुझे यहां खींच लाया है,

तुम्हारे वजूद में ही पनपकर पाया है मेरे वजूद ने वजूद

वजूद के बीच वजूद को हासिल फासला मैंने मिटाया है,

जुदा जुदा हालातों की दो तकदीरी तस्वीरे तामीरात हुई,

खुदाया देख मुझे कैसा जज्बाती बिस्तर अता फरमाया है,

इन कब्रों में दफन जिस्मों को लाश मत कहना ऐ लोगों

इनका वजूद कल मेरा साया था आज भी एक साया है।-“Pkvishvamitra”

Your soft palms had caressed my forehead,

Pleasantness, in pleasantness, brought me here,

In your lifetime, I have found myself alive without existence

I have erased the gap that has existed in existence,

There were two fairytale pictures of different disciplines,

Seeing the excavation, what kind of emotional bed has I done,

Do not say the dead people buried in these tombs.

It was in my presence yesterday that there was a shadow even today.- “Pkvishvamitra”

In Syria!!

In Syria, cruelty is tarnishing and humanity is ashamed of its literal implications, the silent humanism of the world is giving humanity an opportunity to be blooded, subjects such as country / caste / religion always become secondary to humanity, have become secondary There are also, but all humanist organizations in Syria seem to be carrying an unconscious state while acquiring a silent state, from the twitter In the painted pictures, the children who were killed by childlessness were not obstructed in the path of any power / power; the death of such infidel children as accepting divine form while acquiring power due to such a devastating killer ruler global silence Doing / doing, dealing with the inhuman people, this dishonesty is disgusting and condemnable, please raise human voice against each level on this issue. Try to protect, every obscure child in the world is entitled to live her life, we will always oppose her abrogation of this right, praying and praying for Syrian children by being inspired by this idea.- PKVishvamitra

करूण रूदन!!

सीरिया में नृशंसता तांडव कर रही है और मानवता अपने शाब्दिक निहितार्थों पर लज्जित है,विश्व के मानवतावादियों का मौन मानवता को रक्तरंजित होने का अवसर प्रदान कर रहा है,देश/जाति/धर्म जैसे विषय सदैव मानवता के सम्मुख गौण हो जाते हैं,गौण हुए भी हैं,किन्तु सीरिया के सम्बन्ध में समस्त मानवतावादी संगठन मौन अवस्था को प्राप्त करते हुए अज्ञातवासीय स्थिति धारण कर गये प्रतीत होते हैं,टवीटर से उठाये गये चित्रों में जो अबोध बच्चे नृशंसता से मारे गये हैं वह किसी सत्ता/शक्ति के मार्ग में बाधक नहीं थे,मानवीय संवेदनाओं से हीन ऐसा नृशंस हत्यारा शासक वैश्विक मौन के कारण सशक्तता अर्जित करते हुए ईश्वरीय स्वरूप स्वीकार किये जाने वाले अबोध शिशुओं का वध कर/करा है,निरीह जनता के साथ व्यवहारित यह नृशंसता घृणित एवम् निन्दनीय है,कृपया प्रत्येक स्तर पर इसके विरूद्ध आवाज उठाकर मानवता को संरक्षित करने का प्रयास करें,विश्व का प्रत्येक अबोध शिशु अपने जीवन को जीने का अधिकारी है,हम उसके इस अधिकार हनन का विरोध सदैव करेंगे,इस विचार से ओत प्रोत होकर सीरियाई बच्चों के लिए प्रयाय तथा प्रार्थना करें।-PKVishvamitra

In Syria, cruelty is tarnishing and humanity is ashamed of its literal implications, the silent humanism of the world is giving humanity an opportunity to be blooded, subjects such as country / caste / religion always become secondary to humanity, have become secondary There are also, but all humanist organizations in Syria seem to be carrying an unconscious state while acquiring a silent state, from the twitter In the painted pictures, the children who were killed by childlessness were not obstructed in the path of any power / power; the death of such infidel children as accepting divine form while acquiring power due to such a devastating killer ruler global silence Doing / doing, dealing with the inhuman people, this dishonesty is disgusting and condemnable, please raise human voice against each level on this issue. Try to protect, every obscure child in the world is entitled to live her life, we will always oppose her abrogation of this right, praying and praying for Syrian children by being inspired by this idea.- PKVishvamitra

बातें!!

फिर से वही आसमानों की बातें,

बादलों की उंची उडानों की बातें,

जाग जागकर संजोई गयी बेतुकी बातें 

बहुत कुछ कहने के लिए बेताब मुलाकातें,

हाथ आये या नहीं आये वह मगरूर सा चांद,

कसमसाती मुटठियों में छिपी बेपनाह हसरतें,

ये सिलसिले कब और कहां रूकते हैं कम्बख्त

करते हैं शुरू बात में से बात बनकर निकलती बातें।-“Pkvishvamitra”

Sorry Friends!!

The ten thousand followers on Twitter were stopping on the stance, the goal was complete, now I will spend my time with my friends in WordPress,Sorry Friends!!
टवीटर पर दस हजार फॉलोवर की जिद टवीटर पर रोके हुए थी,लक्ष्य पूर्ण हुआ है,अब अपने वर्डप्रेस के मित्रों के साथ पूरा समय बिताऊंगा,सौरी।

Return with change!!

Return with change, sorry for being separated from this platform for so long and there is also a humble apology, apologizing while receiving asylum seekers-Pkvishvamitra
बदलाव के साथ वापसी,इतने समय तक इस मंच से पृथक रहने का खेद है तथा विनम्र क्षमायाचना भी है,सहृदयताओं का आश्रय प्राप्त करते हुए क्षमा कर दीजिये।-PKvishvamitra.

Game!!खेल!!

शक नहीं है तरकश में छिपे हुए तीरों की नीयत पर

मगर डर कमान थामने वाले हाथ की सोच से लगता है,

बडी जालिमाना फितरत होती है कम्बख्त इंसान की

हर एक साजिशन हमला जाने पहचाने चेहरे का लगता है,

चेहरे पर आदमियत की नकाबी सजावट है बडा धोखा

हाथ अजनबी ही सही खंजर तो जाना पहचाना लगता है,

कितनी ही खा चुका होता है धोखा वो मासूम यकीन

जो जिगर किसी मुंडेर पर चहचहाता हुआ परिंदा लगता है,

दर्दे गम की इलाजे तजवीज बता देता है हर शख्स यहां

हरेक शख्स चोट खाया हुआ नामाकूल तजुर्बेकार लगता है,

एक जैसे दर्द और गम एक जैसे ही हैं शिकवे शिकायत

ये जहां नाउम्मीदियों की भंवर में उलझा समुन्दर लगता है,

जद्दोजहद के इन बवंडरों से बिखरा हुआ है हरेक घरौंदा

थके कदमों से आगे बढना खुद को ही आजमाना लगता है,

मंजिलों के निशानात ही तो होते हैं हकीकी कायदे सबक

बनकर मिटना मिटकर बनना यही खेल गैबियाना लगता है।

“Pkvishvamitra”

Game!!
There is no doubt on the principle of hidden arrows in quiver 
But fear comes from the thought of hand pausing, 
Big Lily is the person who is humiliating 
Every conspiracy attack seems to be a familiar face, 
The human face on the face is a lot of cheating 
Hand strangely, it is well known to know the right dangers, 
How many people have eaten, they are innocent. 
The liver gets a pinch of turban on a mound, 
Dada Gham’s elaborate responsibility tells all the people here 
Every person is hurt by an inefficient reputation, 
The same kind of pain and grief are the same as the complaint 
Where the Nawadis are in the vortex, 
Spread with these tornadoes of Jadozhad every house 
Moving forward with tired steps itself seems to be a challenge, 
Only the targets of the floors are the practical laws lesson 
Becoming by removing the eruption, this game seems to be Gabania. 
“Pkvishvamitra”

Unconscious!!गैरमुनासिब!!

इधर जाना है गैरमुमकिन उधर जाना भी गैरमुनासिब

चौराहा सा बनकर यह जिंदगी असमंजस की शिकार है,

वो रिश्तों की तराजू में तौलते हैं हर एक जज्बात यहां

खलिशभरा बेईत्मिनानिना सबब ही फसलाना पैदावार है,

इंसानी बस्तियों से आदमियत तो हो ही चुकी है नदारद

कैसा वहशियाना जुनूनी नशा है कैसा ये नशीला खुमार है,

जानवर की आड में जानवरानापन के खूनी घिनौने खेल

कैसे बतायें कौन जुदा कौन है शरीक कौन इसमें शुमार है,

मातमी सबब तो है बस मातमी की ही लानतें मलानतें

जीने के हक से कर दे बेदखल कैसा ये तूफानी ज्वार है,

नफरत ने दी हिकारत को पैदाईश अलगावी आंगन में

यकीन नहीं हो पाता है यहां मौजूद आदमियत बेशुमार है,

कातिल करतब कातिलाना सोच के जहर बुझे हैं खंजर

फिजूल देते हैं दिलासा बस मामूली सी ही तो खरपतवार है।

“Pkvishvamitra”

Unconscious !!

It is also absurd to go absent 
This life is a victim of confusion by becoming a crossroads, 
They weigh in the balance of relationships, every emotion here 
Khilbhara Beethinanina is the only harvesting crop, 
Human beings have already been human beings 
How is this obsessive addiction, how is this intoxicant, 
Bloody abomination game of animal abuse 
How to tell who is the person who is involved in it,
It is all a misfortune for the mother of the mother.
What is the occupation of the typhoon of living? This is a tidal tide, 
Hatred has given birth to hikarat 
I can not believe that the humanity here is uncountable, 
The killer of the murderer thinking of the murderer is dying 
Dissatisfaction is only the slightest weirdness.

“Pkvishvamitra”