समय!! Time!!

कभी समय काटना भी होता है कितना मुश्किल,

कभी खुद के लिए समय चुराना है कितना मुश्किल,

मुश्किलों की बिसात पर लुढकते,फिसलते ये पुतले,

मनचाहे समय के लिए उलझते जूझते इंसानी पुतले,

समय की भी समझ से बाहर हो चले ये बिसाती मोहरे,

समय की सही पैमाईश साबित करते हुए पैमाने दोहरे,

समय!!समय!!ही है या बिसाती मोहरों की कब्रगाह है,

है कब्रनशीनों को गुमान कि वो हर सच्चाई से आगाह है।

“Pkvishvamitra”

Sometimes cutting times also happens, how difficult,

Ever difficult to steal the time for yourself,

Rolling on the tricks of the difficulties, slipping these statues,

Wondering about the time when human beings struggling to cope,

It’s time to get out of the sense of these biscuits,

Prove the correct meteor of time, scale two,

Time is a time !! or a graveyard of crores of rupees,

The graves are guessed that they are warned by every truth.

Pkvishvamitra

Advertisements