Unconscious!!गैरमुनासिब!!

इधर जाना है गैरमुमकिन उधर जाना भी गैरमुनासिब

चौराहा सा बनकर यह जिंदगी असमंजस की शिकार है,

वो रिश्तों की तराजू में तौलते हैं हर एक जज्बात यहां

खलिशभरा बेईत्मिनानिना सबब ही फसलाना पैदावार है,

इंसानी बस्तियों से आदमियत तो हो ही चुकी है नदारद

कैसा वहशियाना जुनूनी नशा है कैसा ये नशीला खुमार है,

जानवर की आड में जानवरानापन के खूनी घिनौने खेल

कैसे बतायें कौन जुदा कौन है शरीक कौन इसमें शुमार है,

मातमी सबब तो है बस मातमी की ही लानतें मलानतें

जीने के हक से कर दे बेदखल कैसा ये तूफानी ज्वार है,

नफरत ने दी हिकारत को पैदाईश अलगावी आंगन में

यकीन नहीं हो पाता है यहां मौजूद आदमियत बेशुमार है,

कातिल करतब कातिलाना सोच के जहर बुझे हैं खंजर

फिजूल देते हैं दिलासा बस मामूली सी ही तो खरपतवार है।

“Pkvishvamitra”

Unconscious !!

It is also absurd to go absent 
This life is a victim of confusion by becoming a crossroads, 
They weigh in the balance of relationships, every emotion here 
Khilbhara Beethinanina is the only harvesting crop, 
Human beings have already been human beings 
How is this obsessive addiction, how is this intoxicant, 
Bloody abomination game of animal abuse 
How to tell who is the person who is involved in it,
It is all a misfortune for the mother of the mother.
What is the occupation of the typhoon of living? This is a tidal tide, 
Hatred has given birth to hikarat 
I can not believe that the humanity here is uncountable, 
The killer of the murderer thinking of the murderer is dying 
Dissatisfaction is only the slightest weirdness.

“Pkvishvamitra”

2 विचार “Unconscious!!गैरमुनासिब!!&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s